यूजी व पीजी दाखिले के लिए लखनऊ के इन कालेजों में अभी भी है मौके, जल्द करें आवेदन

यूथ कार्नर
Typography

लखनऊ- राजधानी लखनऊ में ग्रेजुएशन (यूजी) व पोस्ट ग्रेजुएशन (पीजी) कोर्स में दाखिले के लिए अभी विद्यार्थियों के पास काफी विकल्प हैं। लखनऊ विश्वविद्यालय (लविवि) में दाखिले के लिए आवेदन करने से जो विद्यार्थी चूक गए हैं या अभी यूजी दाखिले के प्रवेश परीक्षा परिणाम में उनकी रैंक काफी नीचे हैं वे दूसरे संस्थानों में दाखिला ले सकते है।

लविवि से ही संबद्ध करीब 172 डिग्री कॉलेजों के साथ-साथ डॉ. शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय और ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती उर्दू, अरबी-फारसी यूनिवर्सिटी में दाखिले के लिए फॉर्म मिल रहे हैं। डॉ. शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन फॉर्म मिलना शुरू हो गए हैं।

यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता प्रो. डीएन सिंह ने बताया कि ऑनलाइन आवेदन फॉर्म वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। जबकि ऑफ लाइन फॉर्म यानी विवि के काउंटर से फॉर्म सोमवार से मिलेंगे। बता दें 50 प्रतिशत सीटें यहां दिव्याग विद्यार्थियों के लिए आरक्षित हैं।

परंपरागत कोर्सेज जैसे बीए, एमए, एमएसडब्ल्यू, सार्टिफिकेट इन भोजपुरी, बीकॉम, एमकाम, बीकॉम एलएलबी ऑनर्स व एमएससी आदि कोर्सेज में दाखिले के लिए सामान्य व ओबीसी अभ्यर्थियों को 600 रुपये और दिव्याग व एससी-एसटी के अभ्यर्थियों को 300 रुपये का फॉर्म मिल रहा है।

एक वहीं प्रोफेशनल कोर्स जिसमें बीएड विशेष शिक्षा, एमएड विशेष शिक्षा, एमबीए, एमवीए, बीवीए, और पीएचडी कोर्स में दाखिले के लिए फॉर्म सामान्य व ओबीसी अभ्यर्थियों को 1000 रुपये और एससी-एसटी व दिव्याग अभ्यर्थियों को 500 रुपये का मिलेगा। परंपरागत कोर्सेज में दाखिले मेरिट से होंगे और प्रोफेशनल कोर्सेज में दाखिले प्रवेश परीक्षा के माध्यम से लिए जाएंगे। 

उधर ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती उर्दू, अरबी-फारसी यूनिवर्सिटी में दाखिले के लिए आवेदन फॉर्म मिल रहे हैं। इन दो यूनिवर्सिटीज के अलावा राजधानी में नेशनल पीजी कॉलेज में दाखिले के लिए ऑनलाइन व ऑफ लाइन आवेदन फॉर्म 14 जून तक भरे जा सकेंगे, और स्नातक कोर्सेज में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा 18 जून, 19 जून और 20 जून को होगी। 

इसके अलावा आइटी पीजी कॉलेज, केकेसी, केकेवी, डीएवी पीजी कॉलेज सहित लगभग सभी डिग्री कॉलेजों में अभी आवेदन फॉर्म भरे जा सकते हैं। लविवि में आवेदन करने से चूके अभ्यर्थियों के पास अभी हैं कई विकल्प। डॉ. शकुंतला मिश्र यूनिवर्सिटी व उर्दू, अरबी-फारसी यूनिवर्सिटी सहित डिग्री कॉलेजों में है मौका।