कैराना उपचुनाव: विपक्ष ने भाजपा पर लगाया ईवीएम में छेड़छाड़ का आरोप 

राजनीति
Typography

न्यूज डेस्क -- उत्तर प्रदेश के कैराना में हो रहे लोकसभा के उपचुनाव के लिए आज किये जा रहे मतदान के दौरान कई मतदान केन्द्रों पर ईवीएम मशीनों में खराबी को लेकर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है। विपक्ष ने भाजपा पर ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़ कराने का आरोप लगाते हुए जमकर हमला बोला।

कैराना में वीवीपीएटी मशीनों में ख़राबी की शिक़ायतें बढ़ीं। खोडसमा गांव के बूथ नम्बर 5, झिंझाना के बूथ नम्बर 58, बाबरी के बूथ नंबर 33, अग्रवाल धर्मशाला के बूथ 49, बड़ा बाजार बूथ केन्द्र, बनत के 91 बूथ, चोसना के बूथ नंबर 34, शामली के बूथ 17, झिंझाना के राष्ट्रीय शिक्षा सदन कॉलेज के बूथ नंबर 58 पर इवीएम खराब होने की जानकारी है।जिसकी वजह से मतदाताओं में भारी रोष है।

इसको लेकर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट करके कहा कि शामली, कैराना, गंगोह, नकुड, थानाभवन और नूरपुर के लगभग 175 पोलिंग बूथों से ईवीएम-वीवीपीएटी मशीन के ख़राब होने की शिकायत तुरंत सुनी जाए। उन्‍होंने कहा कि उप चुनाव में जगह-जगह से ईवीएम मशीन के ख़राब होने की ख़बरें आ रही हैं, लेकिन फिर भी वोटर अपने मताधिकार के लिए ज़रूर जाएं।

आरएलडी प्रत्याशी तब्बसुम हसन ने चुनाव आयोग से शिकायत में कहा है कि 59 वीवीपीएटी मशीनें काम नहीं कर रही हैं। ईवीएम मशीनें जान बूझकर ख़राब कराई जा रही हैं। इन सब चीज़ों से मेरी जीत का अंतर तो कम हो सकता है पर जीत पक्की है।

वहीं समाजवादी पार्टी के नेता राजेंद्र चौधरी ने कहा कि नूरपुर में 140 ईवीएम मशीनें खराब है क्‍योंकि उनके साथ छेड़छाड़ की गई है। कैराना से भी कुछ इस तरह की रिपोर्ट आ रही हैं। बीजेपी फूलपुर और गोरखपुर में हार का बदला लेना चाहती है, यही कारण है कि वे हमें किसी भी कीमत पर हराना चाहते हैं।गौरतलब है कि देश की चार लोकसभा सीटों और 10 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए वोट डाले जा रहे हैं। 2019 लोकसभा चुनाव से पहले इन उपचुनावों को सेमीफ़ाइनल माना जा रहा है।